[Full Guide] Bounce Rate Kya Hai | Bounce Rate कम Kaise Kare – 2020

हैल्लो मेरे प्यारे मित्रों, आज हम फिर से आपके लिए एक और बेहद महत्वपूर्ण ब्लॉग पोस्ट ‘Bounce Rate Kya Hai’ और Bounce Rate कैसे कम करे, पोस्ट लेकर आये हैं जिसे आपके लिए जानना, समझना और इस पोस्ट में बताए जा रहे points को अपनी ब्लॉग पोस्ट में implement करना बेहद जरूरी हैं।

मैं जानता हूँ कि जो विजिटर इस पोस्ट को पढ़ रहे है वह bounce rate के बारे में जानना चाहते हैं और जो readers जिन्होंने अभी तक बाउंस रेट के बारे में सुना ही नहीं हैं उनके लिए तो यह जानना बहुत ही ज्यादा आवश्यक हैं।

तो आज हम इस आर्टिकल में, Bounce Rate Kya hai और bounce rate को कम करना क्यों जरूरी हैं, के बारे में जानेंगे साथ ही यह हमारे ब्लॉग की इनकम को अधिक से अधिक बढ़ाने में कैसे सहायक है, इस बारे में भी जानेंगे।

तो चलिए सारे काम छोड़कर अपने कानों से handfree निकाल लीजिए और नीचे बताये जा रहे पोस्ट को ध्यान से पढ़ना शुरू कर दीजिये।

Bounce Rate Kya Hai – 2020

Bounce rate Kya hai
Bounce rate Kya Hai

Bounce Rate की गणना, आपकी साइट पर आए हुए उन विजिटर की timing के Percentage के रूप में होती है, जो आपकी साइट पर आकर बिना रुके, बिना कुछ क्लिक किये किसी अन्य वेबसाइट पर चले जाते हैं।

आसान भाषा में कहें, तो आपके ब्लॉग पर आने वाले विजिटर केवल एक ही page पर आकर, आपकी वेबसाइट को leave करके किसी अन्य वेबसाइट में चले जाना ही Bounce Rate कहलाता हैं।

ये तो हो गयी गूगल की भाषा, अब हम इसे उदाहरण के द्वारा समझते हैं।

मान लीजिए, कि आज के दिन आपकी वेबसाइट पर 100 लोग आए और इन 100 मे से 60 लोगो ने आपकी वेबसाइट में ज्यादा interest न दिखाते हुए केवल एक ही पेज देखा और आपकी site को leave करके किसी दूसरी वेबसाइट में चले गए तो इसका मतलब आज आपकी वेबसाइट का bounce rate 60% हुआ।

और ऐसा कोई भी ब्लॉगर नही चाहेगा कि उसकी वेबसाइट में आने वाले विजिटर तुरंत दूसरी जगह चले जायें।

सही कहा न!

Apni Website Ka Bounce Rate Kaise Check Kare

आपमें से ऐसे बहुत से लोग होंगे जिन्हें Bounce Rate के बारे में नही पता होगा या जानने में interest ही नही दिखाया होगा, लेकिन अब इसके बारे में जानने के बाद बहुत से ऐसे लोग होंगे जिन्हें यह नही पता होता कि अपने ब्लॉग या वेबसाइट का बाउंस रेट कैसे चेक करते हैं।

हालांकि बहुत से लोग ऐसे भी होंगे जिन्हें इस बारे में पता होता हैं, लेकिन हम अपने आर्टिकल में अधूरा ज्ञान कभी नही देते क्योंकि सम्पूर्ण ज्ञान सभी के लिए लाभदायक हैं।

तो अपने ब्लॉग पर bounce rate का पता लगाने के लिए आपको Google Analytics tools की वेबसाइट में जाना होगा और वहां Dashboard में Behavior Overview के ऑप्शन में Bounce Rate का पता चल जाएगा। यह प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध हैं।

Blog Ka Bounce Rate Kitna Hona Chahiye?

Bounce rate kya hai और इसे कैसे चेक करते हैं, इस बारे में आपको पता चल ही गया होगा, लेकिन अब आपके मन में यह प्रश्न भी उठ रहा होगा कि ब्लॉग का बाउंस रेट कितना होना चाहिए।

तो देखिए, आपकी वेबसाइट पर आने वाले विजिटर जितनी देर तक रुकेंगे, आपकी पोस्ट को read करेंगे उतना ही bounce rate कम होगा और जितना बाउंस रेट कम होगा उतना ही आपकी वेबसाइट के लिए बेहतर होगा।

Average Bounce Rate Kitna Hona Chahiye?

रिसर्च के अनुसार, एक Average बाउंस रेट 41% से 60% के बीच में होना चाहिए, यदि आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट 90% तक हैं तो यह आपकी वेबसाइट के लिए बेहद निराशाजनक हैं क्योंकि अधिक बाउंस रेट आपके वेबसाइट की Authority को कम करता हैं।

हालांकि यह सभी प्रकार की वेबसाइट पर लागू नही होता क्योंकि ब्लॉग या वेबसाइट अलग अलग केटेगरी की होती हैं जैसे: Content Blog, News Blog, Retail website, e-commerce website etc।

हर एक वेबसाइट के अलग-अलग bounce rate matter करता हैं, जिसके आंकड़े हम नीचे आपको दे रहे हैं।

  • Landing pages: 65% से 90%
  • Non-Ecommerce Content: 35% से 60%
  • Content Blogs वाली वेबसाइट: 41% से 61%
  • Lead Generation वाली वेबसाइट: 30% से 55%
  • E-Commerce & Retail वाली वेबसाइट: 20% से 45%

मुझे उम्मीद हैं कि इन आंकड़ों से आपको एक आईडिया तो मिल ही गया होगा कि हर एक वेबसाइट की अपनी अलग केटेगरी होती है और हर केटेगरी वाली वेबसाइट का bounce rate अलग होता हैं।

लेकिन,

इन सभी में एक बात जरूर कॉमन हैं, कि जितना ज्यादा bounce rate होगा उतना ही आपकी वेबसाइट के लिए नुकसान होगा और जितना बाउंस रेट कम होगा उतनी ही आपकी वेबसाइट के लिए फायदा होगा।

अब मेरा मानना हैं कि आपके मन में खलबली तो जरूर मची होगी और होनी भी चाहिए, और यह जरूर सोच रहे होंगे कि अपने ब्लॉग के लिए Bounce Rate Kam kaise kare?

सही कहा न!

तो चलिए जल्दी से इसे भी जान लेते है।

(Best Tips) Bounce Rate Ko Kam Kaise Kare

Best Tips for reduce bounce rate
Bounce rate Kam kaise kare – Best Tips for Reduce Bounce Rate

1. Best Theme Design

वो English में कहावत तो आपने जरूर सुनी होगी ‘First Impression is the Last Impression’ ये लाइन आपकी वेबसाइट पर 100 फीसदी सच हैं, आप माने या न माने लेकिन आपके वेबसाइट की डिज़ाइन ही लोगो को attract करती हैं और पोस्ट को पढ़ने पर मजबूर करती है।

इसलिए अपने वेबसाइट के डिज़ाइन को Eye Catchy बनाये लेकिन animation का उपयोग न करे इससे लोड स्पीड बढ़ता है।

आपकी वेबसाइट के डिज़ाइन से User जितना attractive होंगे उतना ही time आपकी वेबसाइट पर spent करेंगे जिससे Bounce Rate भी कम होता है।

2. अपने वेबसाइट की Speed को बढ़ाये

अपने वेबसाइट की स्पीड पर हमेशा ध्यान जरूर दे, क्योंकि आपकी वेबसाइट जितनी जल्दी load होगी user को उतना ही मजा आएगा और गूगल भी fast स्पीड वाली वेबसाइट को ज्यादा priority देता हैं।

यदि आप वर्डप्रेस यूजर हैं तो हमेशा अच्छी होस्टिंग का ही चुनाव करे क्योंकि अच्छी होस्टिंग ही आपके ब्लॉगिंग कैरियर की पहली कुंजी हैं, यदि होस्टिंग बेकार है तो आपके पैसो के साथ आपकी मेहनत का भी नुकसान होना ही है।

ब्लॉग के लिए आपको कौन सी होस्टिंग लेना चाहिए कौन सी नही, टॉप बेस्ट होस्टिंग कौन सी है, इस बारे में मैंने कम्पलीट guide दी हुई है।

यदि आपका ब्लॉग ब्लॉग्स्पॉट पर हैं तो आपको Theme का selection सोच समझकर करना चाहिए क्योंकि ब्लॉग्स्पॉट में हमे होस्टिंग से कोई मतलब नही होता, क्योंकि इसमें वेबसाइट गूगल में ही होस्ट रहती है, लेकिन Theme से बहुत बड़ा मतलब होता है क्योंकि ब्लॉग में Theme का Seo, Adsense फ्रेंडली, Mobile Friendly होना बहुत जरूरी है।

नीचे दी गयी पोस्ट के लिंक में मैंने Best Theme For Blogger के लिए लिस्ट दी हुई है जिसे आप free में डाउनलोड कर सकते हैं।

3. SEO Friendly Content

सोचिए कोई अपनी प्रॉब्लम का solution ढूंढने गूगल में आता हैं और उसे आपकी लिखी गयी पोस्ट मिल जाती हैं और वह उस पोस्ट को क्लिक करके read करने लगता हैं लेकिन अगर उसे आपके आर्टिकल में कोई solution न मिला या उसके काम कोई जानकारी उपलब्ध नहीं हुई तो वो तुरंत आपकी वेबसाइट को leave कर देगा। और आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट भी बढ़ जाएगा

तो यदि आप ऐसा नही चाहते है तो आपको कंटेंट में सुधार लाना होगा, कंटेंट को SEO फ्रेंडली बनाना होगा और जिस टॉपिक के ऊपर आप पोस्ट लिख रहे हैं उसमें उस टॉपिक से जुड़े सारे points जरूर डालने चाहिए, इससे user का आपकी वेबसाइट में trust built बनता हैं।

कहने का मतलब हैं, कि पोस्ट में अधूरी जानकारी न देकर बल्कि पूरी जानकारी दे और पोस्ट को SEO friendly बनाने की कोशिश करे, क्योंकि SEO friendly आर्टिकल लिखने से आपकी पोस्ट गूगल में जल्दी रैंक करती हैं और इससे Bounce rate भी कम होता हैं।

यदि आपको नही पता कि SeO friendly आर्टिकल कैसे लिखे जाते है तो नीचे दी हुई पोस्ट read करे।

Broken Link ko Fix Kare

ये बहुत जरूरी पार्ट हैं, जिसपर ध्यान देना जरूरी हैं, हम जब भी कोई पोस्ट लिखते हैं तो उसमें अपनी पुरानी पोस्ट के लिंक्स को भी add करते हैं जो कि जरूरी भी हैं, और ऐसे लिंक्स न जाने कितने हम add करते ही रहते हैं,

लेकिन,

किसी कारण से कभी कभी हम अपनी पोस्ट के URL को change करते हैं या किसी पेज को डिलीट अथवा move कर देते है तब broken links की problem होती है, हालांकि उस time हमें इस बारे मे पता नही चल पाता, लेकिन आप इसे बहुत आसानी से find करके fix कर सकते हैं।

आप नीचे दिए गए broken links tools की वेबसाइट में जाकर अपनी वेबसाइट का URL डाल दे, अगर आपकी वेबसाइट में कही कोई Link error हैं तो वह आपको show होगा जिससे आपको आसानी से पता चल जाएगा कि कौन सा link broke हुआ है और उसे आसानी से Fix कर सकते हैं।

5. Cross Browser Compatible

Cross browser compatible का इस्तेमाल वेबसाइट चेक करने के लिए किया जाता हैं, इससे यह पता चलता हैं कि आपकी वेबसाइट अन्य सभी सर्च इंजन में किस तरह से show हो रही हैं।

अब आप कहेंगे कि इससे bounce rate का क्या लेना देना.

तो मैं बता दूं, कि अधिकतर हम सभी लोग ब्लॉगिंग के लिए या कुछ भी सर्च करने के लिए ज्यादातर Google Chrome, Mozilla FireFox का ही इस्तेमाल करते हैं और इस browser में आपकी वेबसाइट बढ़िया show भी हो रही है।

लेकिन,

क्या अन्य सभी ब्राउज़र में आपकी वेबसाइट वैसी ही show हो रही है जैसे गूगल क्रोम में! क्योंकि जरूरी नही की ऑनलाइन विजिटर केवल गूगल क्रोम में ही हो बल्कि अन्य ब्राउज़र में भी हो सकते हैं।

आपको नीचे 2 free ऑनलाइन टूल्स के लिंक्स शेयर कर रहा हूँ जिससे आपको पता चल जाएगा कि आपकी वेबसाइट में कही कोई error तो नही हैं।

6. Internal Linking का इस्तेमाल करे

Internal linking bounce rate कम करने का सबसे बेहतर उपाय हैं, लेकिन Internal linking पोस्ट से रिलेटेड ही होनी चाहिए ताकि विजिटर उस लिंक पर क्लिक करने के लिए मजबूर हो जाये।

उदाहरण के लिए,

मान लीजिये आपने एक पोस्ट लिखी Free ब्लॉग कैसे बनाये और उसी पोस्ट के अंदर अपनी एक पुरानी पोस्ट जो ब्लॉग पोस्ट ब्लॉग बनाने के बाद ब्लॉग की setting कैसे करे का लिंक add कर दिया तो यूजर उस पोस्ट को जरूर पढ़ेगा, इससे दो फायदे होंगे।

  • Bounce Rate कम होगा
  • पोस्ट का ट्रैफिक भी बढ़ जाएगा।

7. KeyWord का इस्तेमाल सही तरह से करे

पोस्ट लिखते समय कीवर्ड का ध्यान देना बहुत ज्यादा जरूरी है क्योंकि जरूरत से ज्यादा कीवर्ड के इस्तेमाल करने से readers irritate होने लगते हैं और यह SERP के लिए भी बिल्कुल सही नही है।

  • Keyword density का ख्याल रखे।
  • Keyword stuffing न करे
  • Single niche से रिलेटेड कीवर्ड का ही इस्तेमाल करे।

Final Word

तो दोस्तों, इस आर्टिकल में हमने Bounce rate kya hai के बारे मे जाना और bounce रेट कम करने के best steps को भी जाना, लेकिन एक पोस्ट केवल read करने से ही कम्पलीट नहीं होती है जबतक कि उसका सही रिजल्ट निकल कर न आये।

यदि आप यह पोस्ट read कर रहे है तो बताये गए हर एक step को ध्यान से पढ़े उसे समझे और जो गलतियां आपसे हुई है उसे सुधारे या उसे इम्पलीमेंट करने की कोशिश करें।

आपकी कोशिश से ही इस पोस्ट रंगत बताएगी की यह आपके लिए हेल्पफुल साबित हुई है अथवा नहीं।

तो उम्मीद करता हूँ कि आपको यह पोस्ट जरूर पसंद आई होगी यदि आपके मन मे कोई समस्या या सुझाव है तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं।

और हाँ, आपसे केवल 3 सेकंड का समय मांगता हूं आप इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया में जरूर शेयर करे क्योंकि……

शेयर करने से ही caring होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.