Basic SEO Kya hai – SEO Kaise Kare [9 best SEO tips in hindi]

Basic SEO kya hai: क्या आप जानते है किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को रैंक कराने के लिए ब्लॉग का SEO करना कितना जरूरी हैं, बिना SEO के ब्लॉग आपका कभी रैंक नही कर सकता, क्योंकि ब्लॉग से पैसे कमाने के लिए आपके पास बहुत सारा ट्रैफिक आना चाहिए और ट्रैफिक लाने के लिए जरूरी है SEO को समझना।

चलिये आज हम बात करेंगें basic SEO की, SEO kya hai, यह कितने प्रकार के होते हैं, basic SEO kya hai, SEO kaise kare और ब्लॉग के लिए SEO करना क्यों जरूरी हैं? इत्यादि जैसे प्रश्नों के उत्तर इस पोस्ट में मिल जायेंगे।

Basic SEO kya hai - what is seo kya hai

गूगल जब भी किसी वेबसाइट को index करता हैं तो वह सबसे पहले वह उस वेबसाइट का ऑप्टिमाइजेशन, पोस्ट कंटेंट, वेब पेज स्पीड़, इत्यादि चेक करता है, अगर आपने अपनी साइट को गूगल के अल्गोरिदम के हिसाब से ऑप्टीमाइज़्ड नही किया हैं तो आपकी साइट हमेशा डाउन ही रहेगी और वह गूगल या अन्य सर्च इंजन में कभी रैंक नही कर पायेगी।

इसलिए वेबसाइट को रैंक कराने के लिए हमे ब्लॉग का SEO करना पड़ता है ताकि गूगल हमारी वेबसाइट को जल्द से जल्द रैंक करने में मदद करे।

SEO Kya Hai (What is SEO in Hindi)

SEO का फुल फॉर्म “Search Engine Optimization” होता हैं, इस शब्द का उपयोग 23 वर्ष पूर्व यानी सन 1997 में उद्योग विश्लेषक Daini Sullivan के अनुसार आया और SEO शब्द को लोकप्रिय बनाने वाले में से एक Bruice Clay को श्रेय दिया था।

इस Digital duniya के जमाने में अक्सर सभी लोग अपनी समस्याओं का समाधान ढूंढने के लिए गूगल सर्च करते हैं, सर्च करने बाद लगभग 75% लोग 1st पेज पर आने वाली पोस्ट पर ही विजिट करके अपना solution ढूंढते है।

गूगल में एक ही टॉपिक या title पर बने हज़ारो, लाखो पोस्ट पाई जाती हैं लेकिन गूगल का अल्गोरिदम ही ऐसा है कि उन लाखों पोस्ट में जो टॉप 3 पेज में पोस्ट show होती है वह पोस्ट ज्यादा अच्छे से रैंक करती है।

दरअसल SEO को लेकर गूगल का अल्गोरिदम ही ऐसा है, एक रिसर्च के अनुसार 75% लोग गूगल के 1st पेज पर आए पोस्ट को पढ़ना पसंद करते हैं वही 2nd या 3rd पेज पर जाना लोग ज्यादा पसंद नही करते, एक विश्लेषण के अनुसार 93% लोग गूगल के 3rd पेज से ज्यादा आगे जाना पसंद नही करते।

अब आप खुद ये अंदाजा लगा सकते है कि अगर आपको ब्लॉग कम्पटीशन में बने रहना है तो गूगल के टॉप 3 पेज के अंदर ही रहना पड़ेगा और इसीलिए ब्लॉग का seo करना पड़ता है.

गूगल के 1st पेज पर जो पोस्ट होती है वह SEO फ्रेंडली होती है, एक professional blogger पोस्ट को लिखते वक्त SEO का पूरा ध्यान देते हैं इसलिये वह अन्य ब्लॉगर से हमेशा आगे रहते है और उनकी पोस्ट हमेशा रैंक कर जाती हैं।

सिंपल शब्दो में बताऊं तो जो ब्लॉगर अपने ब्लॉग या पोस्ट को SEO फ्रेंडली लिखते हैं, वेबसाइट को गूगल हिसाब से ऑप्टीमाइज़्ड रखते है उनकी वेबसाइट हमेशा रैंक करती हैं।

SEO Karna Kyu Jaruri hai?

SEO kya hai ये तो आपको समझ में आ गया होगा अब बात करते हैं SEO kaise kare और SEO Karna Kyu Jaruri hai? आपको मैं इसका जवाब एक उदाहरण देकर बताऊंगा।

मान लीजिए आपने एक पोस्ट लिखी जिसका title आपने “Make Money Online” या “SEO kya hai” “seo kaise kare” लिखा और इस पोस्ट को आपने पब्लिश कर दिया।

अब आपने जिस title के ऊपर पोस्ट लिखी है, same इसी title पर बहुत सी पोस्ट गूगल में पहले से ही मौजूद होंगी और उनकी संख्या हज़ारो लाखो में होंगी।

अब आप खुद सोचे कि जिस title पर मैंने पोस्ट लिखी हुई है वह पहले से ही गूगल में कई लोगो द्वारा लिखी जा चुकी है और उनकी पोस्ट गूगल के 1st पेज में रैंक भी कर रही हैं, तो ऐसे में आपको क्या करना चाहिए जिससे आप सभी को पीछे छोड़कर गूगल के टॉप 1st पेज में रैंक कर जाए।

जाहिर सी बात है गूगल के 1st पेज में आने के लिए आपको SEO (Search Engine Optimization) करना होगा, गूगल को बताना होगा कि आपका कंटेंट unique के साथ-साथ well-optimized भी हैं और जब गूगल बोट (गूगल बोट एक रोबोट type का होता है जो वेबसाइट को crawl करता हैं और गूगल के पास जानकारी भेजता है) आपकी पोस्ट को इंडेक्स करके गूगल के पास भेजता हैं तब आपकी पोस्ट के रैंक बढ़ने के chance बढ़ जाते हैं।

यह भी पढ़े:

New Blog par traffic kaise badhaye | 13 best working methods

SEO करना क्यों जरूरी है इसके best reason भी है.

  • गूगल के 1st पेज पर टॉप 1 में आने के लिए SEO महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।
  • 1st पेज में आने वाली पोस्ट पर user ज्यादा विश्वास करते है इसलिए SEO का सीखना बहुत जरूरी हैं।
  • ब्लॉग से पैसे कमाने में SEO बहुत मदद करता हैं।
  • अपने competitors को beat करना हैं तो आपको SEO का पूरा ध्यान रखना पड़ेगा।
  • वेबसाइट ऑप्टिमाइजेशन अच्छा होना चाहिए क्योंकि वेबसाइट की speed को गूगल ज्यादा priority देता हैं।
  • Basic SEO kya hai को अच्छी तरह से समझ लेने के बाद आप अपने competitors को आसानी से आगे आने से रोक सकते है।
  • अगर आप अपने ब्लॉग का Basic SEO करना भी सीख गए तो आप किसी भी सर्च इंजन में अपने competitors को beat करने के लिए तैयार हैं।

Types of SEO in Hindi (SEO कितने प्रकार के होते है)

SEO kya hai समझने के बाद आपके मन में यह प्रश्न जरूर आ रहा होगा कि SEO कितने प्रकार के होते है? वैसे तो SEO मुख्यता 2 type के होते है

  1. On-page SEO
  2. Off-page SEO

लेकिन मैं आपको केवल on-page seo और off-page seo के बारे में नही बल्कि Basic SEO के बारे में बताऊंगा क्योंकि Basic seo अंदर ही On-page और Off-page seo भी आता है।

क्योंकि यह एक बहुत बड़ा विषय है जिसे आप एक दिन में नही समझ पाएंगे इसलिए मैंने SEO को 2 part में divide किया हैं, पहला है Basic seo और दूसरा Advance seo, इस आर्टिकल में आप Basic SEO kya hai और ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए 9 best seo tips in hindi के बारे में सीखेंगे।

  1. Basic SEO
  2. Advance SEO

Basic Seo Kya hai: (What is Basic SEO in hindi)

Basic SEO kya hai: अभी तक हमने SEO kya hai और SEO क्यों करें को अच्छी तरह से समझ लिया था। अब बात करते हैं Basic SEO की, क्योंकि यह SEO का ही part हैं इसलिए इसकी परिभाषा भी एक ही है जो मैंने seo kya hai में बताया था, क्योंकि SEO के अंदर बहुत सारे level होते है इसलिए इसके हर एक part को बारीकी से समझना बहुत जरूरी है।

अगर आपने basic seo को अच्छी तरह से समझ लिया तो आप level by level बढ़ते जाएंगे और ब्लॉगिंग में success होने के सीक्रेट्स भी समझते जाएंगे।

अगर आप ब्लॉगिंग में अभी-अभी आये है तो आपको SEO की basic जानकारी तो जरूर होनी चाहिए।

What is SERP in hindi (SERP क्या है)

Basic SEO kya hai के समझने से पहले आपको SERP के बारे में पता होना चाहिए, गूगल या किसी भी सर्च इंजन में हम जो सर्च करते है और सर्च करने के बाद जो रिजल्ट हमें प्राप्त होते है वह SERP कहलाता हैं।

गूगल का अल्गोरिदम SERP यानी Search Engine Rank Page पर based हैं इसलिए आपका ब्लॉग SERP के guidelines के अंतर्गत होना चाहिए।

SERP यानी Search Engine Ranking Page किसी भी वेबसाइट को रैंक कराने में booster का काम करती हैं और यह Basic SEO में किस प्रकार हेल्प करता है यह हम नीचे दिए गए screenshot की मदद से समझाता हूँ।

basic seo kya hai - serp kya hai
SERP
  • Keyword: किसी भी वेबसाइट का basic seo के लिए कीवर्ड most important पार्ट होता हैं, गूगल में किसी भी query को टाइप करके सर्च करते है तो वह कीवर्ड कहलाता है जैसे “A2 hosting kaise kharide” यह कीवर्ड हैं
  • Title: यह पोस्ट का title हैं जो सर्च लिस्ट में रैंक करता हैं, पोस्ट का टाइटल catchy type का होना चाहिए जिससे user आपकी पोस्ट के title पर क्लिक करने पर मजबूर हो जाये।
  • Permalink: SEO के लिए ये एक most important पार्ट है जो आपकी वेबसाइट को रैंक करने में मदद करती हैं, पोस्ट का permalink small (छोटा) होना चाहिए और उसमें keyword जरूर होना चाहिये।
  • Description: यह पोस्ट के बारे में एक छोटा सा description होता हैं जिसके बारे में user को पता चलता है कि वह पोस्ट किस टॉपिक के बारे में हैं, description में भी keyword का use जरूर करना चाहिए।

यह SERP का main structure है जो किसी भी वेबसाइट का रैंक करने का ranking factor हैं।

Bonus Post:

Basic SEO Kaise Kare: 9 Best SEO Tips in हिंदी

Basic SEO kya hai समझने के बाद अब प्रश्न उठता है कि बेसिक seo kaise kare?

सर्च इंजन में प्रतिदिन लगभग 3.3 बिलियन टॉपिक सर्च किये जाते हैं और अगर 1 महीने का count किया जाए तो लगभग 100 बिलियन searching होती है अब इतनी बड़ी ऑडिएंस में क्या आपका ब्लॉग रैंक नहीं कर सकता? बिल्कुल रैंक कर सकता हैं बस जरूरत है आपको SEO के ट्रिक्स को समझने की।

अब आपको SEO के 9 best SEO Tips के बारे में बताने जा रहा हूँ जिन्हें आपको follow करते जाना हैं उसके बाद आपको कही भी Basic SEO kya hai, ब्लॉग का seo kaise kare के बारे में सर्च नही करना पड़ेगा।

1. Title Tag

अपने ब्लॉग में किसी भी पोस्ट का title लिखने से पहले Research करना बहुत जरूरी हैं, क्योंकि अगर आपका Title ही अच्छा नही हुआ या किसी को title catchy नही लगा तो आपके content को कोई भी read नही करेगा और यह SEO के लिहाज से बहुत बुरा हैं।

Title लिखते वक़्त सिर्फ 65 से 70 वर्ड ही use करे वैसे तो गूगल टाइटल के सिर्फ 65 वर्ड ही show करता हैं, इसलिए कोशिस करे कि आपका title 65 word के अंदर हो और उसमें main keyword जरूर लिखे।

2. Alt Tag

किसी भी पोस्ट में Image का होना पोस्ट में चार चाँद लगा देने जैसे होता है और SEO के लिए तो ब्रह्महास्त्र (Powerful) होता हैं क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि एक image 1 हजार शब्द के बराबर होता है, इसलिए अपनी पोस्ट में कम से कम 2 से 3 image जरूर add करें।

Image को अपलोड करने के बाद उसमें Alt Tag keyword जरूर add करें क्योंकि 1 image से भी आपको huge traffic मिल सकता है।

Image के Alt tag में कीवर्ड का जरूर use करे इससे आपका SEO बहुत अच्छा हो जाता हैं और पोस्ट के रैंक होने के chance भी बढ़ जाते हैं।

3. Post Content

ब्लॉगिंग में इस समय competition बहुत बढ़ गया हैं इसलिए कंटेंट को unique तरीके से लिखना और भी जरूरी हो गया हैं, इसलिए अपने कंटेंट में कम से कम 1500+ word जरूर लिखे।

जितने ज्यादा words अपनी पोस्ट में लिखेंगे पोस्ट के rank होने के chance उतने ही बढेंगे, लेकिन पोस्ट लिखते वक़्त जरूरत से ज्यादा या बिना मतलब की लाइन आगे न बढ़ाये इससे गूगल आपके कंटेंट को priority नही देगा।

15 Tips SEO Friendly Article Kaise Likhe [Beginner To Advance]

4. Use Heading H1, H2, H3, in SEO

पोस्ट लिखते समय Heading का विशेष ध्यान रखे क्योंकि heading SEO friendly इस्तेमाल नही हुई तो आपकी पोस्ट रैंक नही कर पायेगी।

  • H1 heading: H1 heading title में use होती हैं और H1 heading को एक पोस्ट में 2 बार use नही कर सकते क्योंकि यह basic seo के लिए अच्छा नही हैं।
  • H2 Heading: Title में H1 heading का use करने के बाद H2 heading का use करना चाहिए और उसमें keyword का प्रयोग करें इससे गूगल सर्च इंजन को आपके टॉपिक को crawl करने में आसानी होगी।
  • H3 Heading: H3 heading का use H2 heading के under में करना चाहिए, इसी तरह H4 heading का प्रयोग H3 के under में करें।

5. Post URL

अपनी पोस्ट का URL जिसे हम permalink भी कहते है, short में use करना चाहिए ज्यादा लम्बे URL को गूगल पसंद नही करता है और ये लंबे URL SEO friendly भी नही होते हैं।

SEO friendly URL कैसे बनाये?

पोस्ट लिखने के टाइम पर जो title आपने दिया होता है वह पूरा टाइटल आपके permalink में default होता है इसलिए उसे short करने के लिए और URL को SEO friendly बनाने के लिए पोस्ट का main keyword use करें, for example:

  • Long URL : example.com/ghar-baithe-paise-kaise-kamaye-paise-kamane-ki-puri-jankari-hindi-me
  • Short URL : example.com/paise-kaise-kamaye

Permalink SEO फ्रेंडली बनाने के लिए 75 शब्दों से कम words use करना चाहिए.

6. Keyword & LSI Keyword

Newbie ब्लॉगर Keyword use करते समय बहुत गलती करते हैं, वह जरूरत से ज्यादा कीवर्ड का इस्तेमाल करते हैं, जो कि SEO को खराब करता हैं इसलिए Keyword का इस्तेमाल आपकी पोस्ट के word के हिसाब से केवल 0.50% to 1.50% तक use करना चाहिये।

Main keyword का इस्तेमाल करने के साथ साथ LSI keyword का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए यह आपकी पोस्ट को boost करने में बहुत हेल्प करता हैं।

LSI keyword kaise banaye

LSI keyword का full form Latent Semantic Indexing होता है, यह main keyword का ही पार्ट होता हैं, अपनी पोस्ट में LSI कीवर्ड जरूर इस्तेमाल करने चाहिए क्योंकि कभी-कभी main keyword रैंक न होने पर पर LSI कीवर्ड रैंक कर जाते हैं, for example:

Main Keyword: पैसे कैसे कमाये
LSI Keyword: घर बैठे पैसे कैसे कमाये

इस तरह के LSI कीवर्ड इस्तेमाल करने से पोस्ट को बूस्ट होने में मदद मिलती हैं और पोस्ट के रैंक करने के chance बढ़ जाते हैं।

Bonus Post:

7. Meta Description:

पोस्ट को सर्च रैंकिंग में लाने के लिए meta description add करना जरूरी हैं और यह SEO के लिए बहुत जरूरी हैं इसमें आपको keyword के साथ साथ LSI कीवर्ड का भी use करना चाहिए जिससे आपकी ब्लॉग पोस्ट को बूस्ट होने में मदद मिलती हैं।

Meta description 160 शब्दो के अंदर लिखा जाता है जिसमे आपको अपने पोस्ट के बारे में short description लिखना होता हैं।

Meta Description थोड़ा catchy स्टाइल में लिखना चाहिए जिससे user को आपकी पोस्ट पर क्लिक करने के लिए मजबूर हो जाना पड़े।

8. Internal Linking

कंटेंट लिखने से ही कुछ नही होता, कंटेंट को viral करने के लिए hard work के साथ-साथ स्मार्ट वर्क भी करना पड़ता है जिसके लिए internal linking करना बहुत जरूरी है।

जब हम अपनी ही पोस्ट का लिंक अपने किसी दूसरे पोस्ट में लिंक add करते हैं तो इसे internal link कहते हैं।

Internal linking करने के 2 benefit मिल जाते हैं एक तो आपका SEO best हो जाता है और दूसरा आपका content भी एक दूसरे से लिंक होकर viral होता रहता हैं।

9. External Linking

Basic SEO में External Linking भी एक रैंकिंग फैक्टर हैं, यह वह लिंक होते है जो बाहरी लिंक को अपने पोस्ट में लिंक करते हैं.

इसको एक उदाहरण देकर समझाते है, मान लीजिए कि राम ने Make Money Online पर एक बहुत अच्छे से पोस्ट लिखा है, और श्याम Make Money Online पर ही एक पोस्ट लिख रहा हैं श्याम ने राम के उसी पोस्ट का लिंक अपनी पोस्ट में add कर दिया इसी लिंक को External Link कहते हैं।

Difference between SEO and SEM in Hindi

SEO और SEM में फर्क होता हैं, जिन वेबसाइट में organic traffic आता हैं वह SEO के माध्यम से आता है यानी सर्च इंजन में गूगल खुद user को recommend करता है, सीधा शब्दो मे बताऊ तो जो ब्लॉगर अपने वेबसाइट को SEO को अच्छे से ऑप्टीमाइज़्ड करते हैं उनको organic ट्रैफिक मिलता है और उनकी पोस्ट पर traffic automatic आता रहता हैं।

अपनी वेबसाइट पर paid traffic पाने के लिए SEM यानी Search Engine Marketing का इस्तेमाल किया जाता हैं इससे आपको organic traffic नही मिलता बल्कि paid traffic यानी Inorganic traffic मिलता हैं।

Paid traffic के comparison में organic traffic ज्यादा successful होता हैं क्योंकि user paid blog पर कम क्लिक करता हैं, गूगल की सर्विस होते हुए भी गूगल paid traffic को कम priority देता हैं।

SEM (Search Engine Marketing) के लिए गूगल को कुछ amount pay करना पड़ता हैं जिससे आपकी पोस्ट को google top page पर रखता हैं हालांकि यह लिमिटिड समय के लिए होता हैं।

Final Word

Search Engine Optimization वेबसाइट के लिए बहुत जरूरी हैं बिना SEO के आपकी website कभी भी रैंक नही कर सकती हैं।

आप SEM भी कर सकते हैं लेकिन इससे आपकी वेबसाइट कभी बूस्ट नही हो सकती इसलिए ब्लॉग के लिए SEO करना कितना जरूरी है यह आपको पता लग ही गया होगा।

उम्मीद करता हूं कि आपको हमारी यह पोस्ट Basic SEO Kya hai – SEO Kaise Kare [9 best SEO Tips in hindi] आपके लिए लाभदायक सिद्ध हुई होगी, अगर आपको कोई परेशानी हो रही है तो कमेंट करके पूछ सकते हैं।

3 second का समय निकाल कर इस पोस्ट को शेयर जरूर करें इससे दूसरे लोगो को भी हेल्प मिल जाएगी।

5 COMMENTS

  1. This is really interesting, You are a very skilled blogger.
    I have joined your feed and look forward to seeking more of your
    wonderful post. Also, I have shared your site in my social networks!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.